Tagged: Shiv Bahadur Singh Bhadauria

Shiv Bahadur Singh Bhadauria

Shiv Bahadur Singh Bhadauria

​बैठ लें कुछ देर, आओ झील तट पत्थर-शिला पर लहर कितना तोड़ती है लहर कितना जोड़ती है देख लें कुछ देर, आओ पाँव पानी में...