Tagged: Jaun Eliya Poetry

Jaun Eliya Ghazal

Jaun Eliya Ghazal

ख़ामोशी कह रही है कान में क्या आ रहा है मेरे गुमान में क्या अब मुझे कोई टोकता भी नहीं यही होता है खानदान में...