Tagged: Dushyant Kumar

दुष्यंत कुमार । Dushyant Kumar

दुष्यंत कुमार । Dushyant Kumar

​घंटियों की आवाज़ कानों तक पहुँचती है एक नदी जैसे दहानों तक पहुँचती है अब इसे क्या नाम दें, ये बेल देखो तो कल उगी...

दुष्यंत कुमार । Dushyant Kumar

दुष्यंत कुमार । Dushyant Kumar

मैं जिसे ओढ़ता-बिछाता हूँ वो ग़ज़ल आपको सुनाता हूँ एक जंगल है तेरी आँखों में मैं जहाँ राह भूल जाता हूँ तू किसी रेल-सी गुज़रती...

Dushyant Kumar

Dushyant Kumar

​नज़र-नवाज़ नज़ारा बदल न जाए कहीं जरा-सी बात है मुँह से निकल न जाए कहीं वो देखते है तो लगता है नींव हिलती है मेरे...