Tagged: Chandrasen Virat

Chandrasen Virat

Chandrasen Virat

​लौट रहा हूँ मैं अतीत से देखूँ प्रथम तुम्‍हारे तेवर मेरे समय! कहो कैसे हो? शोर-शराबा चीख-पुकारे सड़कें भीर दुकानें होटल सब सामान बहुत है...